Showing posts with label poem. Show all posts
Showing posts with label poem. Show all posts

Friday, April 5

Mitr (Friend) Wahi Hai....

सुंदर विपुल चंचला का
नंबर दिलवा दे, *मित्र वही है..*

मधुशाला का नित्य निमंत्रण
जो दिलवा दे, *मित्र वही है..*

व्यथित ह्रदय हो पीड़ा में तब
विल्स जला दे, *मित्र वही है..*