Friday, December 6

Just 30 Years Ago

*It was just 30 Years Ago*

30 years ago, children were gentle with their parents. Today parents have to be gentle with their children 

30 years ago, everyone wanted to have children. Today many people are afraid of having children.

30 years ago, children respected their parents. Now parents have to respect their children.

30 years ago, marriage was easy but divorce was difficult. Nowadays it is difficult to get married but divorce is so easy.

30 years ago, we got to know all the neighbors. Now we are strangers to our neighbors.

30 years ago, people had to eat a lot because they needed the energy to work hard. Now we are afraid to eat foods for fear of the cholesterol/diseases.

30 years ago, villagers were flocking to the city to find jobs. Now the town people are fleeing from the city stress to villages find peace.

30 years ago, everyone wanted to be fat to look happy ... Nowadays everyone diets to look healthy.

30 years ago, rich people pretended to be simple and humble. Now the poor are pretending to be rich.

30 years ago, only one person worked to support the whole family. Now all have to work to support one child.

30 years ago, people loved to study and read books to impress themselves and others ... now people love to update Facebook and read their whatsapp messages to impress themselves and others.


*Yes..it was just 30 years ago* 🙏

Thursday, December 5

Saturday, November 2

Democracy and Wet Hair Woman

*औरत के गीले बाल और लोकतंत्र...*

पॉलिटिकल साइंस के सेमिनार में एक विद्यार्थी का बयान था कि मेरा तो यक़ीन लोकतंत्र पर से सन 1996 में ही उठ गया था..

कहने लगा कि ये उन दिनों की बात है जब एक शनिवार को मैं मेरे बाक़ी तीनों बहन भाई, मम्मी पापा के साथ मिलकर रात का खाना खा रहे थे ।
 पापा ने पूछा:- *कल तुम्हारे चाचा के घर चलें या मामा के घर?*
हम सब भाइयों बहनों ने मिलकर बहुत शोर मचा कर चाचा के घर जाने को कहा, सिवाय मम्मी के जिनकी राय थी 
*कि मामा के घर जाया जाए।*

*बात बहुमत की मांग की थी और अधिक मत चाचा के खेमे में पड़े थे ...*
बहुमत की मांग के मुताबिक़ तय हुआ 
*कि चाचा के घर जाना है।*
 मम्मी हार गईं। पापा ने हमारे मत का आदर करते हुए चाचा के घर जाने का फैसला सुना दिया।
 हम सब भाई बहन चाचा के घर जाने की ख़ुशी में जा कर सो गये।
रविवार की सुबह उठे तो मम्मी गीले बालों को तौलिए से झाड़ते हुए बमुश्किल अपनी हंसी दबा रहीं थीं..
*उन्होंने हमसे कहा के सब लोग जल्दी से कपड़े बदल लो हम लोग मामा के घर जा रहें हैं।*
मैंने पापा की तरफ देखा जो ख़ामोशी और तवज्जो से अख़बार पढ़ने की एक्टिंग कर रहे थे.. मैं मुंह ताकता रह गया..
*बस जी!*
*मैंने तो उसी दिन से जान लिया है कि* लोकतंत्र में बहुमत की राय का आदर... और वोट को इज़्ज़त...  सब  ढकोसले है।
*असल फैसला तो बन्द कमरे में उस वक़्त होता है जब ग़रीब जनता सो रही होती है"*

😜😆😆😆😆

इसके बाद उस विद्यार्थी ने पोलिटिकल साइंस छोड़कर इकोनॉमिक्स ले ली।.   😂

Friday, November 1

Ramayan

रामायण में भोग नहीं त्याग है।

भरत जी तो नंदिग्राम में रहते हैं, शत्रुघ्न जी  उनके आदेश से राज्य संचालन करते हैं

एक एक दिन रात करते करते, भगवान को वनवास हुए तेरह वर्ष बीत गए ।

एक रात की बात हैं,माता कौशिल्या जी को सोते में अपने महल की छत पर किसी के चलने की आहट सुनाई दी । नींद खुल गई । पूछा कौन हैं ?

मालूम पड़ा श्रुतिकीर्ति जी हैं । नीचे बुलाया गया ।

श्रुतिकीर्ति जी, जो सबसे छोटी हैं, आईं, चरणों में प्रणाम कर खड़ी रह गईं ।

माता कौशिल्या जी ने पूछा, श्रुति ! इतनी रात को अकेली छत पर क्या कर रही हो बिटिया ? क्या नींद नहीं आ रही ? शत्रुघ्न कहाँ है ?

श्रुतिकीर्ति की आँखें भर आईं, माँ की छाती से चिपटी, गोद में सिमट गईं, बोलीं, माँ उन्हें तो देखे हुए तेरह वर्ष हो गए ।

उफ ! कौशल्या जी का कलेजा काँप गया ।

तुरंत आवाज लगी, सेवक दौड़े आए । आधी रात ही पालकी तैयार हुई, आज शत्रुघ्न जी की खोज होगी, माँ चली ।

आपको मालूम है शत्रुघ्न जी कहाँ मिले ?

अयोध्या जी के जिस दरवाजे के बाहर भरत जी नंदिग्राम में तपस्वी होकर रहते हैं, उसी दरवाजे के भीतर एक पत्थर की शिला हैं, उसी शिला पर, अपनी बाँह का तकिया बनाकर लेटे मिले।

माँ सिराहने बैठ गईं, बालों में हाथ फिराया तो शत्रुघ्न जी ने आँखें खोलीं, माँ!

उठे, चरणों में गिरे, माँ ! आपने क्यों कष्ट किया ? मुझे बुलवा लिया होता।

माँ ने कहा, शत्रुघ्न ! यहाँ क्यों ?"

शत्रुघ्न जी की रुलाई फूट पड़ी, बोले- माँ ! भैय्या राम जी  पिताजी की आज्ञा से वन चले गए, भैय्या लक्ष्मण जी उनके पीछे चले गए, भैय्या भरत जी भी नंदिग्राम में हैं, क्या ये महल, ये रथ, ये राजसी वस्त्र, विधाता ने मेरे ही लिए बनाए हैं ?

माता कौशल्या जी निरुत्तर रह गईं ।

देखो यह रामकथा हैं...

यह भोग की नहीं त्याग की कथा हैं, यहाँ त्याग की प्रतियोगिता चल रही हैं और सभी प्रथम हैं, कोई पीछे नहीं रहा।

चारो भाइयों का प्रेम और त्याग  एक दूसरे के प्रति अद्भुत-अभिनव और अलौकिक हैं ।

जय सियाराम
रामायण जीवन जीने की सबसे उत्तम शिक्षा देती हैं।
सियावर रामचन्द्र की जय 🏹

Wednesday, October 16

Shark Tank

*Interesting read..* 
The Japanese have a great liking for fresh fish. But the waters close to Japan have not held many fish for decades. So, to feed the Japanese population, fishing boats got bigger and went farther than ever.
The farther the fishermen went, the longer it took to bring back the fish. The longer it took them to bring back the fish, the stale they grew.
The fish were not fresh and the Japanese did not like the taste. To solve this problem, fishing companies installed the freezers on their boats. They would catch the fish and freeze them at sea. Freezers allowed the boats to go farther and stay longer.
However, the Japanese could taste the difference between fresh and frozen fish. And they did not like the taste of frozen fish. The frozen fish brought a lower price. So, fishing companies installed fish tanks. They would catch the fish and stuff them in the tanks, fin to fin. After a little hashing around, fishes stopped moving. They were tired and dull, but alive.
Unfortunately, the Japanese could still taste the difference. Because the fish did not move for days, they lost their fresh-fish taste. The Japanese preferred the lively taste of fresh fish, not sluggish fish. The fishing industry faced an impending crisis! But today, it has got over that crisis and has emerged as one of the most important trades in that country! How did Japanese fishing companies solve this problem? How do they get fresh-tasting fish to Japan ?
To keep the fish tasting fresh, the Japanese fishing companies still put the fish in the tanks. But now they add a small shark to each tank. The shark eats a few fish, but most of the fish arrive in a very lively state. The fish are challenged  and hence are constantly on the move. And they survive and arrive in a healthy state! They command a higher price and are most sought-after. The challenge they face keeps them fresh!
Humans are no different. L. Ron Hubbard observed in the early 1950's: "Man thrives, oddly enough, only in the presence of a challenging environment."George Bernard Shaw said: " Satisfaction is death!"
If you are steadily conquering challenges, you are happy. Your challenges keep you energized.They keep you alive! 

 _*_Put a shark in your tank and see how far you can really go!*__